हुकूमत आपकी, हुक्म आपके

तो फिर क्यों नहीं मुकम्मल मोहब्बत आपकी…..